Hindi

राष्ट्रचिंतन – राष्ट्र प्रथम

काला तमका अंधियारा ए, दशोदिशामे छाया है, राष्ट्र सुरक्षित करणे हेतू, राष्ट्र प्रथम यह नारा है.. संविधानकी गरिमाकोभी, कलंकीत ए क्यो करते है, अपने निजी स्वार्थ भावसे, क्यो देश विभाजन करते है.. अंतस्थलसे द्वेषभावसे, इनकी सारी गतिविधीयां, देश तोडने दुष्ट भावसे, इनका है व्यवहार सदा.. न इनको कोई भय लगता है, असत्य सारा कहते है, […]

Continue Reading
Hindi

अर्जुनस्य विषाद किं

युद्ध न करना है मुझको, हरी ! राज्यकी भी चाह नही, नही चाहीए धनरत्नोकी, वैभवकी भी आह नाही……. ||१|| गुरुपीतासम सदृश सारे, इनसे पाया ज्ञान सदा, पाला जिनके हातोने है, वंदन करता मन मेरा…. ||२|| नही चाहीए वों गरिमाभी, जिसके कारण सिंदूर मिटे, सुवर्णमाला राजलक्ष्मी, जिससे चुडीयां फुट पडे…. ||३|| कितनी सिसंकीं घरोघरोमें, विधवांओंका रुदन […]

Continue Reading
English Hindi Marathi My Poems

मक्केकी रोटी Pizza और कढी

Smoke has blackened, roads are blocked, invisible everything, ears are locked… विनाकारण रस्त्यावर, बसले संसार मांडून, खोटे खोटे रडून, नुकसान सांगतात ओरडून… सिर्फ कुछ प्रांतोमेही, क्या अकाल पडा है, बरसात नही हुई, और महामारी आई है… Predators flocked, to challenge democracy, Some are also there, hatching conspiracy… महागड्या गाड्या यांच्या, शामियाने सजवले, बदामाचे दूध पिऊन, […]

Continue Reading
Hindi

उम्मीदोके ख्वाबोके रंगिन गुब्बारे

लोग कहते है जिंदगी ठहरसी गयी है, बारीषकी बुंदे अटकसी गयी है, परिंदोकी चहक रुकसी गयी है, चारो तरफ चुप्पी फैलसी गयी है…….. . दिलोमे दरिया मचल तो रहा है, दिमागोमे तूफान थमसा गया है, हवाओमे सर्दसी बिखरी हुई है, पत्तोकी हलचल अजीब हो रही है……… बातोमे करकश कही भी नही है, बातोमे फिरभी महक […]

Continue Reading
©2020: Mukund Bhalerao | Web Master: TechKBC
Back To Top